17.1 C
New Delhi
Wednesday, February 8, 2023

घोर कलयुग: चाची के साथ ही हो गया प्यार, पकड़े जाने पर पंचायत ने कराई दोनों की शादी

ऐसा कहा जाता है कि प्यार पागल बना देता है। प्यार करने वालों को कुछ नही दिखता। उन्हें खुद के प्यार अलावा किसी चीज़ की चिंता नही होती है।

प्यार जब शबाब पर होता है तो उसमें लोग रिश्तों की अहमियत भी अक्सर भूल जाते हैं। प्रेमी अपने प्रिय के साथ अलग दुनिया में चला जाना चाहता है। जहां किसी की नजर न पड़े। आज हम आपको एक ऐसी ही कहानी के बारे में बताएंगे जहाँ रिश्तों के अहमियत को भूलते हुए एक लड़के को एक ऐसी महिला से प्यार हो गया जो उसके रिश्ते में चाची लगती थी। आइये जानते है इस घटना के बारे में।

चाची से हुआ प्यार

बबलू कुमार जो कि शिवहर जिला के तरियानी प्रखंड के एक गांव का रहने वाला है। उसे एक महिला से प्यार हो गया जिसका नाम शिला है। जो रिश्ते में उसकी चाची लगती है। देखते-देखते यह प्यार एक अनोखी शादी में तब्दील हो गई। दरअसल गांव के पंचायत ने इनदोनों को एक होने की रजामंदी दे दी है। बबलू ने भरी पंचायत में टॉर्च के रौशनी में शिला के मांग में सिंदूर डाला।

अनोखी शादी देखने के लिए भीड़ जमा

इस अनोखी शादी को देखने के लिए गांव में भीड़ जमा हो गई। सभी लोग इस रिश्ते के बारे में जानने के लिए उत्सुक दिखाई दे रहे थे। बबलू ने साथ फेरे तो नही लिए पर पंचायत को साक्षी मान कर सात जनम तक साथ निभाने की कसम खाई। वहीं हाथ उठाकर शादी की रजामंदी दी। इसके बाद महिला अब बबलू की पत्नी बन गई है।

यह भी पढ़ें: शादी के बाद अचानक दुल्हन के मुंह से निकलने लगा धुँआ, रिश्तेदारों में मच गई खलबली

गांव वालों में इश्क की भनक

बबलू और शिला के इश्क की भनक गांव वालों को पहले ही हो गई थी। बबलू अक्सर शिला जो कि रिश्ते में उसकी चाची लगती थी उसे घुमाने ले जाया करता था। कभी शिवहर, कभी सीतामढ़ी व मुजफ्फरपुर ले जाने लगा और दोनों कई-कई दिन तक गायब रहते थे। गांव वालों को जब यह बात पता चली तो उन्होंने इनदोनों को पकड़ने की कोशिश की पर यह दोनों गायब हो गए। बाद में लौटने के बाद गांव के लोगों ने इनदोनों को पकड़ा और पंचायत बुलाई।

पंचायत में दोनों ने इश्क को कबूला

पंचायत की बैठक में दोनों ने एक-दूसरे के इश्क को कबूल किया। इसके बाद पंचों ने विवाहिता के ससुर व बबलू कुमार के पिता बृजेश सहनी समेत उनके परिजनों से बात की। सभी पक्ष की सहमति मिलते ही शाम के वक्त पंचायत ने भी बबलू और शीला की शादी का फैसला सुनाया। उक्त महिला के पहले पति से शादी सात साल पहले हुई थी। पहले पति से दो साल का बेटा भी है। उसका पहला पति परदेस में मजदूरी करता है। अपने पहले पति के अनुपस्थिति में दोनों एक दूसरे के इतने करीब आ गए। अब देखने वाली बात होगी कि यह शादी आगे कितना सफल हो पाता है।

Medha Pragati
Medha Pragati
मेधा बिहार की रहने वाली हैं। वो अपनी लेखनी के दम पर समाज में सकारात्मकता का माहौल बनाना चाहती हैं। उनके द्वारा लिखे गए पोस्ट हमारे अंदर नई ऊर्जा का संचार करती है।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -