13.1 C
New Delhi
Sunday, January 29, 2023

मोदी सरकार ने दिया बिजली चोरों को बड़ा झटका, 2025 तक हर घर में लग जायेगा यह उपकरण

बिजली हमारी जिंदगी का एक सबसे अभिन्न अंग बन गया है। जिसपर आज के समय में हम पूरी तरह से निर्भर करते हैं।

बिजली वैज्ञानिकों की सबसे बड़ी खोज है। आज हमें रोज हजारों कार्यों के लिए इसकी जरूरत होती है। इसका हर क्षेत्र में प्रयोग किया जा रहा है। पर आज के युग में बिजली चोरी जैसे मामले भी सामने आते हैं। तो कई बिजली बिल का भुकतान सही समय पर नही करते हैं। इन सभी चीजों से छुटकारा पाने के लिए बिजली मंत्रालय ने बिजली उपभोक्ता के लिए बिजली के प्रीपेड मीटर को लगवाना अनिवार्य कर दिया है। आइये जानते है इसके बारे में।

प्रीपेड मीटर की शुरुआत

आज बिजली सभी लोगों के लिए अनिवार्य रूप से जरूरी है। लोग बिजली का उपयोग बहुत करते हैं तो वहीं कुछ लोग बिजली की चोरी करने में भी कतराते नहीं है। बिजली विभाग को अपने उपभोक्ताओं से बिजली बिल के भुगतान के लिए भी काफी मशक्कत करनी पड़ती है। अब इन सभी चीजों से छुटकारा पाने के लिए बिजली मंत्रालय द्वारा बिजली उपभोक्ताओं के लिए प्रीपेड मीटर की शुरुआत की जा रही है। बिजली उपभोक्ताओं को प्रीपेड मीटर लगाना अनिवार्य कर दिया गया है।

प्रीपेड मीटर की समय सीमा निर्धारित

उपभोक्ताओं को अब प्रीपेड मीटर लगवाना अनिवार्य कर दिया गया है। उपभोक्ता अपने यहां प्रीपेड मीटर मार्च 2025 तक लगवा सकते हैं। इसकी समय सीमा निर्धारित कर दी गई है। इस समय सीमा के अंदर अगर कोई अपने यहां प्रीपेड मीटर नहीं लगाता है तो उसे जुर्माना भी देना पड़ सकता है। बिजली की चोरी को देखते हुए सरकार यह कदम उठा रही है। उत्तरप्रदेश में करीब 3 करोड़ बिजली उपभोक्ता है पर वहां काफी संख्या में लोगों द्वारा बिजली का बिल नही जमा किया जाता है। इस सारी चीजों को देखते हुए सरकार यह कदम उठा रही है।

यह भी पढ़ें: तो इस कारण से मंदिर में घुस रही महिला को पुजारी ने बाल पकड़ कर पीटा, वायरल वीडियो भी देखें

केंद्र शासित राज्यों के लिए समय सीमा अलग

केंद्र शासित राज्यों के लिए समय सीमा में बदलाव किया गया है। इन राज्यों को दिसंबर 2023 तक स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगवाना अनिवार्य होगा। वहीं जहां 50 फीसदी से ज्यादा शहरी उपभोक्ता हैं और 2019-20 में कुल तकनीकी-वाणिज्यिक बिजली क्षति 15 प्रतिशत या 25 प्रतिशत से ज्यादा रही है। वहां भी दिसंबर 2023 तक स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके साथ ही ब्लॉक स्तर और ऊपर के सभी सरकारी विभागों और औद्योगिक-वाणिज्यिक उपभोक्ताओं को भी दिसंबर 2023 तक प्रीपेड स्मार्ट बिजली मीटर लगवाना जरूरी होगा।

क्या है प्रीपेड मीटर

यह मीटर जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है प्रीपेड होगा। यानी कि पैसे पहले चुकाने होंगे। और रिचार्ज के जरिए बिजली आपूर्ति करेगा। इसे बिल्कुल मोबाइल फोन की तरह रिचार्ज करना होगा। जैसे ही रिचार्ज खत्म होगा, संबंधित आवास की बिजली अपने आप ठप हो जाएगी। ऐसा होते ही तुरंत एक मैसेज बिजली उपभोक्ता के पास जाएगा ताकि वह दोबारा से अपने मीटर को रिचार्ज करा सके और बिजली को पुनः चालू किया जा सके।

अगर यह जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो दूसरे लोगों के साथ साझा करें।

Sunidhi Kashyap
Sunidhi Kashyap
सुनिधि वर्तमान में St Xavier's College से बीसीए कर रहीं हैं। पढ़ाई के साथ-साथ सुनिधि अपने खूबसूरत कलम से दुनिया में बदलाव लाने की हसरत भी रखती हैं।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -