17.1 C
New Delhi
Wednesday, February 8, 2023

IAS के लिए MNC की नौकरी छोड़ी, शादी के 1 दिन बाद ही था इंटरव्यू, फिर भी सफल हुई IAS तान्या

यदि कुछ कर दिखने का दम हो तो हमें सफल होने से कोई नहीं रोक सकता। बहुत ऐसे लोग हैं जो यूपीएससी पास कर लोगों की सेवा करना चाहते हैं लेकिन सब को ये सौभाग्य प्राप्त नहीं होता। सफल होने के लिए दिन रात मेहनत करनी पड़ती है। यूपीएससी परीक्षा देने वाले हर प्रतिभागी की अपनी एक अलग ज़िम्मेदारी होती है जिसके लिए वे UPSC पास करना चाहते हैं। इसी क्रम में आज हम एक ऐसे शख्स के बारे में जानेंगे जिन्होंने अपने जीवन में हर मुश्किल से लड़कर जीत हासिल किया।

IAS तान्या सिंघल

IAS तान्या सिंघल मेरठ के शास्त्रीनगर की रहने वाली हैं। उनके पिता मुकेश सिंघल एक बिजनेसमैन हैं। उनकी छोटी बहन सिस्टम इंजीनियर के पद पर DRDO में कार्यरत हैं। तान्या ने अपनी स्कूली शिक्षा DAV स्कूल से प्राप्त की है। तान्या बचपन से ही पढ़ाई में बहुत होशियार थी। तान्या ने 10वीं की परीक्षा में टॉप किया था। 12वीं की परीक्षा में भी वो 95% अंकों के साथ टॉपर बनीं। 12वीं के बाद उन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। इंजीनियर बनने के बाद उन्हें गुड़गांव के एक मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी मिली लेकिन वो अपने इस नौकरी से खुश नहीं थीं।

लोगों की सेवा करने का मन था

तान्या का मन यूपीएससी पास करके लोगों की सेवा करने का था। अपने सपने को पूरा करने के लिए तान्या ने दिल्ली में IAS की कोचिंग करना शुरू कर दिया। उन्होंने 1 वर्ष तक कोचिंग की और फिर सेल्फ स्टडी करना शुरू कर दिया। तान्या ने दो बार UPSC का परीक्षा दिया लेकिन वो सफल नहीं हो पायीं। इसी बीच मुंबई में नौकरी कर रहे शशांक रावत से 26 फरवरी 2020 को तान्या की शादी हो गई। शादी के 2 दिन बाद ही 28 फरवरी को उनका UPSC का इंटरव्यू था। नई दुल्हन पर तरह-तरह की जिम्मेदारियां थी इसी वजह से वहां से निकलना थोड़ा मुश्किल था लेकिन तान्या इंटरव्यू देने चली गई।

आखिरकार मिली सफलता

तान्या ने इस बार पूरे कॉन्फिडेंस के साथ अपना इंटरव्यू दिया। इंटरव्यू देने के बाद तान्या को लग रहा था कि इस बार वह जरूर पास कर जाएंगी। उन्हें अपने इस दिए गए इंटरव्यू पर पूरा विश्वास था। और ऐसा ही हुआ। तान्या यूपीएससी 159वीं रैंक से पास कर गईं।

कैं’सर पीड़ितों के लिए शुरू किया स्टार्टअप

तान्या ने एक स्टार्टअप की भी शुरुआत की है। सबसे पहले उन्होंने कैं’सर मरीजों के लिए अपना बाल दान किया। तान्या ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि कैं’सर पीड़ित बच्चों को देखकर उन्हें बहुत दुख होता है। की’मोथे’रेपी करवाने से मरीज के सर के सारे बाल हट जाते हैं, इसीलिए वो अपना बाल उन्हें देकर उन्हें खुशी देना चाहती हैं। वे आगे कहती हैं कि जब उनके बाल बढ़ेंगे तब वो दोबारा से अपने 12इंच बाल डोनेट कर देंगी। आश्चर्य की बात ये है कि उन्होंने अपनी शादी के एक हफ्ते बाद ही अपना बाल डोनेट किया था। हमारे देश को ऐसे ही ऑफिसर्स की जरूरत है जो जरूरतमंदों का दुख समझे और निवारण करें।

Medha Pragati
Medha Pragati
मेधा बिहार की रहने वाली हैं। वो अपनी लेखनी के दम पर समाज में सकारात्मकता का माहौल बनाना चाहती हैं। उनके द्वारा लिखे गए पोस्ट हमारे अंदर नई ऊर्जा का संचार करती है।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -