13.1 C
New Delhi
Monday, January 30, 2023

नेकी की मिसाल: सीनियर इंस्पेक्टर ने छू लिए जूनियर होमगार्ड के पैर, हो रहे थे रिटायर

मानव जीवन में शिक्षा एवं संस्कारों का बड़ा महत्व माना गया हैं। मानव तथा पशु जीवन में यही मूलभूत अंतर हैं।

एक तरह से संस्कार जीवन के आभूषण समझे गये है। व्यक्ति का समाज में मूल्य तथा सम्मान बहुत बढ़ जाता हैं। आज हम एक ऐसे ही पुलिस इंस्पेक्टर के बारे में बताएंगे जिन्होंने अपने संस्कार का परिचय देते हुए अपने से छोटे पद के होमगार्ड के पैर छुए। आइये जानते है इस सुंदर घटना के बारे में।

फेयरवेल में इंस्पेक्टर ने छुए पैर

यह घटना मेरठ के कंकरखेड़ा थाने की है जहाँ होमगॉर्ड रिछपाल के रिटायर होने पर वहाँ के पुलिस इंस्पेक्टर तपेश्वर सागर द्वारा उनका पैर छुआ गया। अपने से नीचे पद के होमगार्ड के पैर छूने पर पुलिस इंस्पेक्टर की चारों तरफ तारीफ हो रही है। रिछपाल के विदाई समारोह में सभी पुलिस कर्मियों ने उनका सम्मान किया पर जब पुलिस इंस्पेक्टर द्वारा उनका पैर छूकर आशीर्वाद लेना अद्भुत था।

40 सालों से कार्यरत थे होमगार्ड रिछपाल

होमगार्ड रिछपाल 40 सालों से पुलिस विभाग में अपनी सेवा दे रहे थे। उन्हें थाने के सभी कर्मी काफी पसंद करते थे। 40 सालों में होमगार्ड रिछपाल सभी के प्रिय बन गए थे। उनके ईमादारी का सभी लोग खूब तारीफ करते थे। यही कारण रहा कि पुलिस इंस्पेक्टर तपेश्वर सागर अपने से छोटे रैंक के होमगार्ड के पैर छूने में अपने आप को रोक नही पाए।

यह भी पढ़ें: नदी से निकल रहे हैं अंग्रेजों के ज़माने के चांदी के सिक्के, तेज़ बहाव में भी नदी में कूद रहे लोग

होमगार्ड रिछपाल की आंखे थी नम

इतने शानदार फेयरवेल के लिए होमगार्ड रिछपाल बहुत खुश थे पर उनकी आंखें नम थी। अपने पुलिस कर्मियों के साथ इतने दिन बीताना और अब उनका रिटायर होना एक भावुक भरा पल था। सभी पुलिसकर्मीयों द्वारा उनके सम्मान में माला पहनाया गया, उनके पैर छुए गए, और मिठाईयां खिलाई गई। एक सच्चे ईमानदार होमगार्ड का रिटायर होने से पुलिसकर्मी भी भावुक दिखाई दिए।

सोशल मीडिया पर वायरल हुई तस्वीर

रिछपाल 1981 से पुलिस विभाग में कार्यरत थे। उनके इस खूबसूरत फेयरवेल की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। लोगों द्वारा इंस्पेक्टर तपेश्वर सागर की खूब तारीफ की जा रही है। साथ ही साथ होमगार्ड रिछपाल और पुलिसकर्मियों की भी प्रशंसा की जा रही है। आज होमगार्ड रिछपाल के जैसे पुलिस कर्मियों की देश में अत्यंत जरूरत है। आज होमगार्ड रिछपाल अपने ईमानदारी के बदौलत इतना सम्मान पा रहे हैं। होमगार्ड रिछपाल सचमुच प्रशंसा के पात्र हैं।

Medha Pragati
Medha Pragati
मेधा बिहार की रहने वाली हैं। वो अपनी लेखनी के दम पर समाज में सकारात्मकता का माहौल बनाना चाहती हैं। उनके द्वारा लिखे गए पोस्ट हमारे अंदर नई ऊर्जा का संचार करती है।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -