13.1 C
New Delhi
Monday, January 30, 2023

भारतीय सेना की इस डॉक्टर ने बचाई 4000 मरीजों की जान, मिले कई सम्मान: Brigadier SV Saraswati

जब भी हम बीमार होते हैं या अपने आस-पास किसी दुर्घटना को देखते हैं हमें सबसे पहले डॉक्टर की याद आती है।

डॉक्टर वहीं होते हैं जो इन सारी परेशानियों, बीमारियो के खिलाफ लड़ते हैं। आज हम आपको एक ऐसे ही डॉक्टर के बारे में बताएंगे जिन्होंने भारतीय सेना में अपनी सेवा देकर 4000 लोगों की जान बचाई है। आइये जानते हैं इनके बारे में।

ब्रिगेडियर एस वी सरस्वती का परिचय

Brigadier SV Saraswati-ब्रिगेडियर सरस्वती आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले की रहने वाली हैं। इन्होंने 28 दिसंबर 1983 से सैन्य नर्सिंग सेवा में कमीशन मिला था। उन्होंने सैन्य नर्सिंग सेवा में साढ़े तीन दशक से अधिक समय तक सेवा की है। उन्होंने प्रसिद्ध ऑपरेशन थिएटर नर्स के रूप में 3,000 से अधिक जीवनरक्षक और आपातकालीन सर्जरी में सहायता की है और उन्होंने लोगों की जान बचाई है।

सरस्वती ने शादी नही की

एक धनी ब्रिटिश परिवार में जन्मी ब्रिगेडियर सरस्वती के माता- पिता चाहते थे कि उनकी शादी एक अच्छे परिवार में हो लेकिन सरस्वती के जिंदगी का तो कुछ और हीं उद्देश्य था। वो नर्स बन दूसरों की सेवा करना चाहती थी। परिवार वालों को उनका उद्देश्य पसंद नही था उन्हें लगता था कि इससे उनके परिवार के प्रतिष्ठा पर असर पड़ेगा। इसलिए ब्रिगेडियर सरस्वती ने कभी भी शादी नहीं करने का फैसला कर लिया।

सैनिकों को प्रशिक्षित किया

ब्रिगेडियर एसवी सरस्वती ने विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर सैन्य नर्सिंग सेवा का प्रतिनिधित्व किया है। उन्होंने सैनिकों के लिए विभिन्न आउटरीच गतिविधियों का संचालन किया है और बुनियादी जीवन समर्थन में हजार से अधिक सैनिकों और परिवारों को प्रशिक्षित किया है। उन्होंने कांगो में विभिन्न अखिल भारतीय सैन्य अस्पतालों और संयुक्त राष्ट्र शांति रक्षक बलों में भी अपनी सेवाएं प्रदान की हैं।

Source: Internet

यह भी पढ़ें: कलक्टरी छोड़ स्वतंत्रता संग्राम में कूद पड़े नेताजी सुभाष चन्द्र बोस, गांधीजी से हुआ वैचारिक मतभेद

कई मौकों पर सम्मानित

सैनिकों और उनके परिवारों के लिए नर्सिंग पेशे में उनकी मेधावी और विशिष्ट सेवा के सम्मान में उन्हें 2005 में जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ कमेंडेशन, 2007 में संयुक्त राष्ट्र मेडलऔर 2015 में चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ कमेंडेशन से सम्मानित किया जा चुका है। एक डॉक्टर की भूमिका में उनके द्वारा किया गया कार्य अद्भुत है।

राष्ट्रपति के द्वारा सम्मानित

ब्रिगेडियर एसवी सरस्वती को राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार 2020 से सम्मानित किया जा चुका है। राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार, सर्वोच्च राष्ट्रीय सम्मान है जो एक नर्स प्राप्त कर सकती है और इस पुरस्कार को ब्रिगेडियर एसवी सरस्वती को यह गौरव प्राप्त हुआ। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने एक नर्स प्रशासक के रूप में उनके योगदान के लिए उन्हें सम्मानित किया था।

महिला होकर एक सफल पर प्रशासक की भूमिका जिस तरह एसवी सरस्वती ने निभाई है उसकी जितनी तारीफ की जाए कम है। आज वह महिलाओं के लिए प्रेरणा हैं।

Shubham Jha
Shubham Jha
शुभम झा (Shubham Jha)एक पत्रकार (Journalist) हैं। भारत में पत्रकारिता के क्षेत्र में बदलाव लाने की ख्वाहिश रखते हैं। वह चाहते हैं कि पत्रकारिता स्वच्छ और निष्पक्ष रूप से किया जाए। शुभम ने पटना विश्वविद्यालय (Patna University) से पढ़ाई की है। वह अपने लेखनी के माध्यम से भी लोगों को जागरूक करते हैं।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -