17.1 C
New Delhi
Wednesday, February 8, 2023

बचपन में उठाना पड़ा गोबर, स्टार्टअप इंडिया में शुरू किया कैलिप्सो सैलून, आज हैं करोड़ों के मालिक

संघर्ष करने वाला इंसान कभी असफल नही हो सकता। क्या आप सोच सकते हैं कि कोई व्यक्ति जो कभी परिवार का खर्च चलाने के लिए किराने की दुकान तो कभी सैलून में नौकरी करता था आज वह खुद ऐप डेवलप करके सैलून की शॉप खोलकर करोडों कमा रहा हैं?

हरियाणा के रहने वाले गौरव राणा ने अपनी मेहनत के दम पर इस मुकाम को हासिल किया है। वह आज ऐप डेवलप करके अपना खुद का ऑनलाइन सैलून चला रहे हैं। जिसकी नेटवर्थ 20 करोड़ से अधिक है। इंदौर, नागपुर सहित देश के कई शहरों में उनकी सैलून की शॉप है। गौरव के लिए यह सब करना इतना आसान नहीं था। आइये जानते है इसके बारे में।

परिवार का खर्च चलाने के लिए की मेहनत

29 साल के गौरव का सफर संघर्ष भरा रहा है। उनके पिताजी क्रॉकरी का बिजनेस किया करते थे। जिससे परिवार का खर्च आसानी से चल रहा था। लेकिन इसी बीच उनके पिता और चाचा नशा करने लगे जिसकी वजह से उन्हें बिज़नेस में घाटा हो गया। उन्हें सब कुछ बेचकर वापस गांव लौटना पड़ा। घर की आर्थिक स्थिति दिन-ब-दिन खराब होने लगी। गौरव की हालत यह हो गई कि उन्हें खाना पकाने के लिए सड़कों पर से लकड़ी और गोबर लाना पड़ता था। इसकी वजह से उनकी पढ़ाई भी सही से नहीं हो पा रही थी।

यह भी पढ़ें: छोटी उम्र, बड़ा कमाल : Amazon, गूगल प्ले और प्ले स्टोर पर छाया ‘UP का लाल’

किराने की दुकान पर की नौकरी

घर की आर्थिक स्थिति सही करने के लिए गौरव के दादा जी ने गांव में किराने की दुकान खोली। गौरव स्कूल के बाद वहां काम करने लगे। ताकि परिवार का खर्च निकल सके। इतना ही नहीं गौरव खाली वक्त में नाई की दुकान पर भी काम करते थे। गौरव के दादा जी कहते थे कि कोई काम छोटा या बड़ा नहीं होता है। इसलिए वो हर उस काम को कर रहे थे जिससे उनकी पढ़ाई भी हो सके और घर का खर्च भी निकल सके।

नौकरी के साथ शुरू किया बिज़नेस

गौरव ने संघर्षों से जूझते हुए 2008 में बोर्ड एग्जाम पास किया। पैसे की कमी के चलते इंजीनियरिंग या मेडिकल करने के बजाय उन्होंने आगरा के एक कॉलेज से पॉलिटेक्निक की पढ़ाई की। 2011 में इंदौर की एक प्राइवेट कंपनी में उनकी जॉब लग गई। जिससे ठीक-ठाक आमदनी होने लगी। नौकरी के साथ-साथ उन्होंने इवेंट मैनेजमेंट का काम भी शुरू कर दिया। वह दिन में कुछ ना कुछ काम करते रहते थे और रात मे नौकरी करते थे। लेकिन इवेंट मैनेजमेंट का काम में उन्हें सफलता नहीं मिली जल्द ही उन्हें इसे बंद करना पड़ा।

ब्यूटी सैलून के काम में हाथ आजमाया

अपनी असफलताओं से सीखते हुए गौरव ने सलून सर्विस शुरू करने का फैसला लिया। नौकरी के साथ-साथ वह यह काम करते थे। इसके लिए उन्होंने एक ऐप डेवलप किया। इसकी मदद से लोग अपने मन मुताबिक जगह पर सर्विस के लिए ऑर्डर करते थे और गौरव उन्हें वो सर्विस प्रोवाइड कराते थे।

करोड़ो में कमाई होने लगी

इसमें कमाई अच्छी होने लगी। इसके बाद गौरव ने नौकरी छोड़ कर इंदौर और हरियाणा में कैलेप्सो नाम से सैलून ओपन किया। साल 2019 में गौरव ने रेलवे यात्रियों के लिए ऑन डिमांड सलून की सर्विस लॉन्च की। देखते ही देखते गौरव करोड़ों में कमाई करने लगे।

यह भी पढ़ें: कलेक्टर ऑफिस में पिता को हस्ताक्षर के लिए चक्कर लगाते देख, खुद बन गयी कलेक्टर

अपने मेहनत से सफल हुए।

गौरव ब्यूटी सैलून का स्टार्टअप चला रहे हैं। मध्यप्रदेश, हरियाणा और महाराष्ट्र में उनके सैलून हैं। वह इन राज्यों में ऑन डिमांड सर्विस भी प्रोवाइड कराते हैं। यानी जिसे जहां भी सर्विस चाहिए, वो एक कॉल पर सैलून की पूरी सर्विस ले सकता है। इसके साथ ही उन्होंने देश के तीन रेलवे स्टेशनों पर भी रेलून नाम से अपनी सर्विस शुरू की है। जहां वह कस्टमर्स को आधे घंटे के अंदर सैलून की फैसिलिटी प्रोवाइड कराते हैं। महज चार साल में उनकी कंपनी का वैल्यूएशन 20 करोड़ रुपए हो गया है। 150 से ज्यादा लोगों को उन्होंने रोजगार भी दिया है।

गौरव की यह कहानी लाखों लोगों के लिए प्रेरणा है।

Medha Pragati
Medha Pragati
मेधा बिहार की रहने वाली हैं। वो अपनी लेखनी के दम पर समाज में सकारात्मकता का माहौल बनाना चाहती हैं। उनके द्वारा लिखे गए पोस्ट हमारे अंदर नई ऊर्जा का संचार करती है।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -