17.1 C
New Delhi
Tuesday, November 30, 2021

कॉल सेंटर खोलकर गांव के युवाओं को बना रही है आत्मनिर्भर, युवाओं को रोजगार देने के लिए शुरू किया देशीक्रू स्टार्टअप

हमारे देश में शहरों से कहीं ज्यादा आबादी गांव में बसती है। गांव के अधिकांश लोग कृषि एवं पशुपालन पर आधारित रहते हैं। जिस कारण आर्थिक स्थिति से परिपूर्ण नहीं रहते। गांव में ज्यादातर लोग बेरोजगार होते हैं। आज हम आपको इंजीनियर सलोनी मल्होत्रा (Engineer Saloni malhotra) के बारे में बताएंगे। वह गाँव के युवाओं को जागरूक करने का कार्य कर रही है। आइये जाने पूरी ख़बर

सलोनी मल्होत्रा (Saloni malhotra) का परिचय

इंजीनियर सलोनी मल्होत्रा (Engineer Saloni malhotra) पुणे विश्वविद्यालय से इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की है। सलोनी ग्रामीण क्षेत्रों के युवाओं को रोजगार देकर लोगों के लिए सराहनीय बन चुकी है।

ग्रामीण लोगों को करती है प्रोत्साहित

सलोनी मल्होत्रा अपने प्रयासों के दम पर बीपीओ (BPO) उद्योग के प्रति ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को प्रोत्साहित कर उन्हें जागरूक करने का काम कर रही हैं तथा उन्हें रोजगार भी दे रही हैं।

गांव में खोला कॉल सेंटर

सलोनी ने ग्रामीण क्षेत्रों को समृद्ध बनाने हेतु कॉल सेंटर खोला कि लोगों को रोजगार मिल सके। अपने सकारात्मक प्रयासों से शुरू किए गए स्टार्टअप से लोगों को जीने के तौर तरीके एवं व्यवस्था में परिवर्तन हो। उनका उद्देश्य कॉल सेंटर से सिर्फ पैसा कमाना नहीं है बल्कि उनका उद्देश्य गांव के लोगों को जागरूक करना है, उन्हें काम करने का सलीका देना है।

ग्रामीणों को डिजिटल क्षेत्र में आगे बढ़ाया

उनका प्रयास यह है कि शहरों की तरह गांव के भी लोग डिजिटल क्षेत्र में आगे बढ़े। उन्हें भी डिजिटलाइजेशन सेवाओं की जानकारी प्राप्त हो इसलिए उन्होंने बुनियादी सुविधाएं मुहैया कराने के लिए देशीक्रू की भी शुरुआत की। देशीक्रू ने डिजिटलाइजेशन सेवाओं डेटा एंट्री और कन्वर्जन जैसे काम किया।

लड़कियों को किया प्रोत्साहित

देशीक्रू के द्वारा लड़कियों को प्रोत्साहित करने का काम किया जा रहा है। उन्हें भी शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ने की जानकारी दी जा रही है। सलोनी ने ग्रामीण इलाकों को आगे बढ़ाने के लिए तीन चीजें गांव, लाभ, और प्रौद्योगिकी पर ज्यादा जोर दिया।

युवाओं को दिया प्रशिक्षण

आधिकारिक तौर पर फर्म का रजिस्ट्रेशन फरवरी वर्ष 2007 में शुरू हुआ। देशीक्रू सेकंड क्लास गांव और शहरों के बेरोजगार युवाओं को शामिल करने के एक विशेष प्रशिक्षण प्रदान कर उन्हें रोजगार भी दिलाती है।

यह भी पढ़ें: पिता सड़कों पर लगाते थे झाड़ू, बेटे ने आर्मी में अफसर बनके बढ़ाया मान: प्रेरणा

सकारात्मक प्रयासों से बनाई अपनी पहचान

अपने मेहनत और प्रयासों के बदौलत आज के समय में इंजीनियर सलोनी मल्होत्रा बहुत से ग्रामीण इलाकों को कॉल सेंटर का संचालन कर रही है। ग्रामीण बेरोजगार युवाओं को अपनी सकारात्मक प्रयासों से रोजगार दिला रही है। ग्रामीण लोगों को जागरुक कर उन्हें जीने का ढंग बताने वाली सलोनी मल्होत्रा के काम को लोगों ने खूब सराहा है।

गांव की बेरोजगारी दूर करना

गांव में इंडस्ट्री न होना बेरोजगारी का सबसे बड़ा कारण है। सरकार द्वारा छोटे-छोटे योजनाएं चलाना चाहिए ताकि लोगों को रोजगार मुहैया हो सके हालांकि गांव के लोग बेहद मेहनती होते हैं फिर भी रोजगार के मामले में पिछड़े हुए होते है।

Medha Pragati
मेधा बिहार की रहने वाली हैं। वो अपनी लेखनी के दम पर समाज में सकारात्मकता का माहौल बनाना चाहती हैं। उनके द्वारा लिखे गए पोस्ट हमारे अंदर नई ऊर्जा का संचार करती है।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -

Latest Articles