17.1 C
New Delhi
Monday, January 30, 2023

5 बार असफलता हासिल होने के बाबजूद भी कभी नहीं माने हार, 6ठे प्रयास में UPSC निकाल बन गए IAS: IAS Farman Ahmad Khan

लोग अक्सर किसी भी क्षेत्र में असफल होने के बाद उसे छोड़ देते हैं दोबारा प्रयास नहीं करते मगर कुछ लोग ऐसा नहीं करते हैं। वह बार-बार असफल होने पर भी चीटियों की भांति अपने आत्मविश्वास पर डटे रहते हैं। आज हम आपको आईएएस फ़रमान अहमद ख़ान (IAS Farman ahmad khan) के बारे में बताएंगे, उन्होंने बार-बार असफलता पाने के बाबजूद भी अपनी उम्मीद नहीं छोड़ा और अपने दृढ़ संकल्प पर डटे रहे। (Success story of Farman ahmad khan)

आईएएस फ़रमान अहमद खान (IAS Farman ahmad khan) का परिचय

आईएएस फरमान अहमद ख़ान (IAS Farman Ahmad khan) हरियाणा के गुरु ग्राम के निवासी हैं। उनके पिताजी डीएम कार्यालय में काम करते हैं। उनकी माँ गृहणी है। फ़रमान अहमद ख़ान एक मध्यमवर्गीय परिवार से बिलोंग करते है। लगातार पांच बार असफल होने पर भी अहमद ने हिम्मत नहीं हारी और 6ठी बार यूपीएससी की परीक्षा में सफल हुए। 5 बार असफल होने पर भी उनके माता-पिता उन्हें प्रोत्साहित करते रहें।

यह भी पढ़ें: भारतीय सेना की इस डॉक्टर ने बचाई 4000 मरीजों की जान, मिले कई सम्मान: Brigadier SV Saraswati

अपने लक्ष्य को पूरा किया

फ़रमान अहमद खान (Farman Ahmad khan) वर्ष 2014 में ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करके यूपीएससी (UPSC) परीक्षा की तैयारी में जुट गए। यूपीएससी की तैयारी के लिए उन्होंने दिल्ली जामिया रेडियोसीएल कोचिंग में रहकर अपनी तैयारी किया। यूपीएससी की तैयारी के अंदर ही उन्होंने तीन बार इंटरव्यू दिया और दुर्भाग्यवश असफल रहे। इतनी असफलता मिलने के बाद भी उन्होंने अपने आप को टूटने नहीं दिया और दिन रात एक करके तैयारी में जुटे रहे। उन्हें खुद पर भरोसा था इसीलिए वह बार-बार प्रयास करते रहे।

छठी बार में मिली सफलता

फ़रहान अहमद ख़ान (Farman Ahmad khan) नेजामिया कोचिंग की तैयारी के दौरान 2014 से 2019 तक यूपीएससी के अटेम्पट देते रहे। 5 बार असफ़ल होने के बाद 2019 के यूपीएससी में 6ठी प्रयास में 258वीं रैंक प्राप्त कर सफल हुए। वह उन सभी परीक्षार्थियों के लिए प्रेरणा है जो जल्दी हार मान जाते हैं। जब तक लक्ष्य पूरा न हो जाये तब तक हार नहीं मानना चाहिए।

Shubham Jha
Shubham Jha
शुभम झा (Shubham Jha)एक पत्रकार (Journalist) हैं। भारत में पत्रकारिता के क्षेत्र में बदलाव लाने की ख्वाहिश रखते हैं। वह चाहते हैं कि पत्रकारिता स्वच्छ और निष्पक्ष रूप से किया जाए। शुभम ने पटना विश्वविद्यालय (Patna University) से पढ़ाई की है। वह अपने लेखनी के माध्यम से भी लोगों को जागरूक करते हैं।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -