13.1 C
New Delhi
Monday, January 30, 2023

अमीर घर की बहू घर चलाने के लिए ठेला लगाकर बेचती हैं ‘छोले कुल्चे’ – संघर्ष की कहानी..

अमीर घर की बहू घर चलाने के लिए ठेला लगाकर बेचती हैं ‘छोले कुल्चे’ – संघर्ष की कहानी

हम जब भी किसी ठेले पर कोई सामान बेचते हुए किसी को भी देखते हैं तो हमेशा यह ख्याल आता है कि इसके पास दो वक्त की रोटी के लिए पर्याप्त साधन नहीं है। और यह बात लगभग लगभग सही भी है। क्योंकि जब रोजगार नहीं मिलता है तब व्यक्ति को जरूरत से ज्यादा मेहनत करना पड़ता है।

लेकिन कभी भी आपने यह नहीं सोचा होगा कि एक अमीर घर की महिला सड़क के किनारे छोला कुलछा बेच रही है तो उसके पीछे क्या मजबूरी रही होगी। आइए आज हम आपको ऐसी ही महिला के संघर्ष की कहानी से रू-ब-रू करवाते हैं ।

उर्वशी यादव की जिंदगी एकदम फिल्मी कहानी की तरह है। जिसमे एक अमीर परिवार में शादी होने से लेकर पति के एक्सीडेंट से जिंदगी बदल जाने तक का संघर्ष छुपा है। गुरुग्राम के एक अमीर घराने में उर्वशी की शादी हुई थी उनके पति का नाम अमित यादव था। वे कंस्ट्रक्शन कंपनी में अच्छे पोस्ट पर काम करते थे। उनका परिवार एकदम सुखी संपन्न परिवार था। उन्हें पैसे की कोई कमी नहीं थी ।उनका जीवन एकदम ऐसो आराम से चल रहा था। लेकिन एक घटना ने उनके परिवार की छवि ही पलट दी ।

उर्वशी के पति अमित यादव का जब एक्सीडेंट हुआ तब अमित को बहुत सारे सर्जरी और मेडिकल ट्रीटमेंट की जरूरत पड़ी। उनका उनका इलाज भी हुआ लेकिन इतना इलाज के बावजूद उनकी स्थिति बेहतर नहीं हुई जिससे कि वे काम कर सके वे काम करने के लायक भी नहीं थे। इसीलिए सारी जिम्मेदारी अचानक उर्वशी के सिर पे आ गई।

पति के एक्सीडेंट ने बदल दी जिंदगी

उर्वशी के परिवार में अमित ही ऐसे व्यक्ति थे जो काम करते थे। ऐसे में जब उनका एक्सीडेंट हुआ तब घर खर्च ,पति की ट्रीटमेंट ,बच्चों की पढ़ाई का खर्च सब कुछ की जिम्मेदारी उर्वशी पे आ गई। उर्वशी कभी कोई नौकरी नहीं की थी इसलिए उर्वशी को किसी काम को करने का अनुभव भी नहीं था। लेकिन उर्वशी ने कभी हिम्मत नहीं हारी और रोजाना काम के तलाश में घर से बाहर जाने लगी ।

बच्चों के फीस और घर खर्च के लिए उनके बैंक में जो जमा पूंजी थी वह भी खत्म हो गई । कुछ दिन के बाद उर्वशी ने 1 बच्चों के स्कूल में नौकरी करने लगी वह छोटे-छोटे बच्चों को पढ़ाती थी। लेकिन इस नौकरी से उन्हें उतना पैसा नहीं मिलता था जिससे वे अपना घर चला सके। उन्हें घर चलाने मैं बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ा रहा था।

परिवार ने किया विरोध

उर्वशी को पता था कि स्कूल से जो पैसे आते हैं उनसे उनका परिवार नहीं चलने वाला है इसलिए उन्होंने ठेले पर छोला कुल्छा बेचने का निर्णय लिया। लेकिन उनके परिवार वाले ने इसका विरोध किया क्योंकि एक अच्छे घर की बहू सड़क के किनारे ठेला लगाएं ये किसी भी परिवार के लिए शर्म की बात थी। चूंकि उर्वसी को खाना बनाने को बेहतरीन कला आती थी। इसीलिए उन्होंने अपने परिवार वालों को इस बात के लिए किसी भी तरह राजी कर लिया।

ज्यादा पैसे के लिए शुरू किया छोले कुलचे बेचना

उर्वशी के परिवार के विरोध के बावजूद घर परिवार की जिम्मेदारियां भी थी। ऐसे में जो महिला महंगे कार A/C वाले घरों में रहा करती थी। वह आज गुरुग्राम सेक्टर 14 के सड़कों के किनारे चिलचिलाती धूप में ठेला लगाकर छोला कुलछा बेचने लगी। वाकई में यह कितना संघर्ष की बात है यह हम और आप भली-भांति समझ सकते हैं शुरू में लोगों को छोले कुछ खाने के लिए प्रोत्साहित करना बहुत मुश्किल लग रहा था

लेकिन कहते हैं ना “जहां चाह वहीं राह” होती है। उर्वशी की इसी मेहनत और खाने की खुशबू ने लोगों को अपने ठेले तक खींचना शुरू कर दिया ।देखते ही देखते और उर्वसी के छोले कुलचे गुरुग्राम सेक्टर 14 में मशहूर हो गया।

मुश्किल था सफर लेकिन नहीं मानी हार

लोगों को उर्वशी के छोले कुलचे इतना पसंद आने लगे कि लोग दूर-दूर से उनके ठेले के पास आने लगे और छोले कुलचे खाने लगे। हालाकि उर्वशी इंग्लिश अच्छा बोल लेती थी। इसीलिए लोग उनसे ज्यादा प्रभावित भी होते हैं ।शुरुआत में उर्वशी 500 से 3000 तक की कमाई कर लेती थी जो उस वक्त स्कूल की कमाई से ज्यादा थी।लेकिन आज उर्वशी का बिजनेस एक अलग ही रूप धरा है। अब वह अपने पति से ज्यादा कमा लेती है। अब उनके घर की स्थितिभी बेहतर हो गई है।

अमित यादव भी अब पूरी तरह ठीक हो गए है और उन्होंने अपनी पत्नी के बिजनेस को अपने कंधों पर उठा लिया है अब उर्वशी अपने ठेले पर अलग अलग तरह के पकवान बनाती है जिसका स्वाद लोगों के जुबान पर छाया हुआ है

यह कामयाबी उर्वशी के मेहनत और विश्वास का नतीजा इसलिए कहा जाता है जिनके हौसलों की उड़ान ऊंची होती है उसे कामयाबी पाने से कोई नहीं रोक सकता।

आपको उर्वशी के जज्बे की कहानी कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं..

अगर आपको उर्वशी के संघर्ष की कहानी अगर अच्छी लगी होतो इसे शेयर करके इनका हौसला जरूर बढ़ाएं..

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -