17.1 C
New Delhi
Monday, January 30, 2023

जापानियों ने बनाया नया मास्क, क’रोना के संपर्क में आते चमकने लगेगी लाइट, जानिये क्या है खासियत

क’रोना महामारी पूरी दुनिया में कोहराम मचा रहा है। इस के कारण लाखों लोग अपनी जान गँवा चुके हैं। इस बीमारी से बचाव के लिए मेडिकल स्पेसलिस्टो (medical specialists) द्वारा मास्क, सैनिटाइजर और सामाजिक दूरी का पालन करने की सलाह दी गई है। इस बीमारी की वज़ह से पूरी दुनिया में लोगों को बचाने के लिए सरकार के द्वारा कई तरह के लॉकडाउन भी लगाए गए लेकिन हर साल यह बीमारी एक नया रूप ले कर दुनिया में तबाही मचाने आ जाती है।

आज हम आपको एक ऐसे मास्क के बारे में बताएंगे जो क’रोना ग्रसित लोगो के संपर्क में आने से चमकने लगेगा। जी हाँ आपने सही पढ़ा। यह अविश्वसनीय मास्क आपको संभावित खतरे के प्रति अलर्ट कर देगा। आइये जानते हैं इसकी और खासियत….

जापानी साइंटिस्टों ने इस नए तरह के मास्क का किया है निर्माण

दरअसल संक्रमित व्यक्ति की पहचान के लिए वैज्ञानिकों ने इस चमकने वाले मास्क को तैयार किया है। अभी भी यह वायरस एक नए वेरिएंट के रूप में धीरे-धीरे अपने पैर पसार रहा है। इस बीमारी से बचाव के लिए जापान के वैज्ञानिकों ने इस नए तरीके का मास्क बनाया है। इसकी खूबी यह है कि यह मास्क वायरस के संपर्क में आते ही चमकने लगता है। इस बीमारी से बचाव के लिए यह मास्क बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है।

फ़िल्टर में है सारी खूबी

एक रिपोर्ट के अनुसार इस अद्भुत मास्क में ऑस्ट्रिच सेल्स (ostrich cells) का फिल्टर लगाया गया है, जिससे यह वायरस के संपर्क में आते ही चमकने लगेगा। इससे संक्रमण का पता आसानी से लगाया जा सकता है। इस अद्भुत मास्क को Kyoto Prebectural University के प्रेसिडेंट यासुहीरो सुकामोटो (Yasuhero Sukamoto) ने एक रिसर्च ग्रुप की सहायता से बनाया है।

LED लाइट का भी किया गया है प्रयोग

उन्होंने यह दावा भी किया है कि इस मास्क को बनाने में एलईडी (LED) लाइट का प्रयोग सोर्स के तौर पर किया गया है। यही नहीं, इस मास्क में ऑस्ट्रिच के अंडों से एंटीबॉडीज (Antibodies) लेकर उपयोग में लाया गया है। आपको यह भी बता दें कि सबसे पहले क’रोना के बचाव वाले इंजेक्शन इसी पक्षी को दिया गया था। यह पक्षी बाहरी संक्रमण को न्यूट्रल कर एंटीबॉडीज बनाने में परिपूर्ण होती है इसीलिए ऑस्टरिच के अंडे के एंटीबॉडीज को मास्को पर स्प्रे करके देखा गया कि वायरस के संपर्क में आने से स्वास्थ पर क्या रिएक्शन होता है।

यह भी पढ़ें: अब बिना टिकट कैंसिल किये भी बदल सकते हैं यात्रा की तारीख, जानिए क्या है रेलवे का नया नियम

चमकने लगता है यह मास्क

इस मास्क के असर को जांच करने के लिए लगभग 32 क’रोना ग्रस्त रोगियों को 3 दिनों तक इस मास्क का प्रयोग करने के लिए कहा गया। इससे यह पता चला कि मास्क के यूवी लाइट (UV light) चमक रहे थे। क’रोना का पता लगाने के लिए यह मास्क बेहद उपयोगी साबित होगी।

Medha Pragati
Medha Pragati
मेधा बिहार की रहने वाली हैं। वो अपनी लेखनी के दम पर समाज में सकारात्मकता का माहौल बनाना चाहती हैं। उनके द्वारा लिखे गए पोस्ट हमारे अंदर नई ऊर्जा का संचार करती है।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -