13.1 C
New Delhi
Sunday, January 29, 2023

पढ़िए सगाई छोड़कर देश की लाज बचाने कारगिल जाने वाले कैप्टन अनुज नैय्यर की कहानी

कारगिल युद्ध के दौरान भारतीय सैनिकों ने जो साहस और शौर्य दिखाया था वह आज भी हमारी सेना के हौसले को बढ़ाता है। 1999 में पाकिस्तान के खिलाफ लड़े गए कारगिल के युद्ध में पाकिस्तान के धोखे को सेना ने नेस्तनाबूद कर दिया था। दुश्मन देश आज भी वो दिन याद कर थर-थर कांप उठता होगा।

1999 की लड़ाई के कई ‘हीरो’ हैं मगर एक जवान ऐसे हैं जिनकी शहादत और दुश्मन के खिलाफ उनकी हिम्मत को आज भी याद किया जाता है। हम बात कर रहे हैं कैप्टन अनुज नैय्यर की। कारगिल युद्ध की विजय में अहम योगदान देने वाले हीरो कैप्टन अनुज नैय्यर ने ना केवल दुश्मनों के छक्के छुड़ाए बल्कि भारत की जीत को और मजबूत कर तिरंगा फहराया था। टाइगर हिल के पश्चिम में प्वाइंट 4875 को खाली कराने की जिम्मेदारी कैप्टन नैय्यर को दी गई थी। टाइगर हिल को पूरी तरह से पाकिस्तानी घुसपैठियों ने घेर रखा था लेकिन दुश्मनों से सीधे टक्कर लेते हुए कैप्टन अनुज नैय्यर ने हार नहीं मानी और अपनी बहादुरी का अनूठा नमूना पेश किया। आइए जानते हैं उनकी वीरता की अद्भुत दास्तां।

सगाई छोड़ गए थे युद्ध करने ।

25 साल के अनुज अपनी बचपन की दोस्त से सगाई के लिए घर जाने वाले थे, तभी युद्ध छिड़ गया और उन्हें मोर्चे पर कारगिल जाना पड़ा। टाइगर हिल के पश्चिम में प्वाइंट 4875 के एक हिस्से पिंपल कॉम्प्लेक्स को खाली कराने की जिम्मेदारी 17 जाट रेजिमेंट के कैप्टन अनुज नैय्यर को दी गई। प्वाइंट 4875 की यह पोस्ट 6000 फुट की ऊंचाई पर थी। इसे जीतना बेहद जरूरी था, ताकि आगे की राह को आसान बनाया जा सके। एक दल के साथ कैप्टन नैय्यर ने 6 जुलाई की रात को चढ़ाई शुरू की। कदम-कदम पर मौत से सामना होना तय था। लेकिन कैप्टन नैय्यर साथियों के साथ आगे बढ़ते रहे।

यह भी पढ़ें: फिल्मों के साथ पाकिस्तान ने सन्नी देओल के वीजा पर भी लगा रखा है बैन, कारण हैं ये डायलॉग्स

कैप्टन अनुज नैय्यर ने दुश्मनों को दी थी मात ।

कैप्टन अनुज नैय्यर जाट रेजिमेंट की 17वीं बटालियन के एक भारतीय सेना अधिकारी थे। उन्हें 1999 में कारगिल युद्ध में ऑपरेशन के दौरान अनुकरणीय वीरता के लिए मरणोपरांत महावीर चक्र दिया गया था। युद्ध के दौरान टाइगर हिल के पश्चिम में प्वाइंट 4875 को खाली कराने की जिम्मेदारी कैप्टन नय्यर को दी गई थी। टाइगर हिल को पूरी तरह से पाकिस्तानी घुसपैठियों ने घेर रखा था। ये वह प्वाइंट था जो कि बेहद ऊंचाई पर था और दुश्मन सेना पर नजर बनाए हुआ था। इस प्वाइंट को जीतना सेना के लिए बेहद जरूरी था क्योंकि यह रणनीतिक रूप से बेहद ही अहम जगह थी। दुश्मन यहां बंकर बना कर छिपे हुए थे। चुनौती बहुत बड़ी थी क्योंकि दुश्मन अगर एक पत्थर भी गिराते तो वह सीधा सेना से टकराता। इसलिए नैय्यर और उनकी टीम ने बेहद ही सावधानी के साथ कुछ दूरी तय की लेकिन जैसे ही दुश्मन को उनकी भनक लगी तो देखते ही देखते फायरिंग शुरू हो गई। उनकी टीम ने भी फायरिंग शुरू कर दी और पाकिस्तान के 9 सैनिकों को मार गिराया।

चुनौती के आगे डट कर रहे खड़े ।

पाकिस्तानी सैनिकों को मात देने के बाद जैसे कैप्टन अनुज नैय्यर प्वाइंट 4875 पर तिरंगा फहराने की तैयारी में थे तभी दुश्मन ने उनपर ग्रेनेड से हमला कर दिया और वह घायल हो गए। इसके बाद एक और ग्रेनेड हमला हुआ जिसमें वह अपनी टीम के साथ शहीद हो गए। इस बीच पीछे से कैप्टन बत्रा अपनी टीम के साथ पहुंचे और पाक के बचे सैनिकों को ढेर कर इस प्वाइंट पर तिरंगा लहराया।

मरणोपरांत महावीर चक्र से हुए सम्मानित ।

कहा जाता है कि कैप्टन अनुज नैय्यर जंग पर जा रहे थे, तो उन्होंने अपने सीनियर को एक अंगूठी दी और कहा था कि ये अंगूठी उनकी होने वाली मंगेतर को दे दें। सीनियर ने कहा कि तुम खुद देना, जिसके जवाब में उन्होंने कहा कि मैं जंग पर जा रहा हूं वापस लौटूंगा या नहीं, पता नहीं। लौट आया तो खुद दे दूंगा वरना आप इसे मेरे घर भेज देना और मेरा संदेश दे देना। दुर्भाग्यवश इस जंग से अनुज वापस नहीं लौट सके। लेकिन पूरे देश के लिए मिसाल कैप्टन अनुज नैय्यर को युद्ध में अनुकरणीय वीरता के लिए मरणोपरांत महावीर चक्र (भारत का दूसरा सर्वोच्च वीरता पुरस्कार) दिया गया था।

यह भी पढ़ें: कश्मीर पहुचे अक्षय कुमार, स्कूल के लिए दिया 1 करोड़ का दान, फौजियों के साथ किया भांगड़ा

भारत की इस धरती पर कैप्टन अनुज नैय्यर जैसे वीर जवान आज भी हंसते-हंसते अपनी जान की कुर्बानी देने से पीछे नहीं हटते। कैप्टन अनुज नैय्यर आज भले ही इस दुनिया में नहीं है लेकिन उनकी वीरता के किस्से आज भी हर भारतीय के हृदय में जिंदा हैं।

Sunidhi Kashyap
Sunidhi Kashyap
सुनिधि वर्तमान में St Xavier's College से बीसीए कर रहीं हैं। पढ़ाई के साथ-साथ सुनिधि अपने खूबसूरत कलम से दुनिया में बदलाव लाने की हसरत भी रखती हैं।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -