13.1 C
New Delhi
Monday, January 30, 2023

स्कूल की फीस भरने के लिए अखबार तक बेचा, आज B.Tech कर बन गए हैं IFS अफसर: P Balamurugan

जीवन के सभी बाधाओं को पार करके आगे बढ़ने वाला इंसान ही अपने जीवन में सफल होता है। आज हम आपको आईएफएस ऑफिसर पी बालमुरुगन (IFS officer P Balamurugan) के बारे में बातएगें, जिन्होंने अपने जीवन में आने वाले सभी कठिनाइयों का सामना करते हुए सफलता हासिल किया। आइये जानते हैं उनकी कामियाबी की कहानी के बारें में। (Success story of IFS officer P Balamurugan).

पी बालमुरुगन (P Balamurugan) का परिचय

पी बालमुरुगन (P Balamurugan) चेन्नई के किलकटल्लीई के रहने वाले है। बालमुरुगन को बचपन से ही कठिनाईयों का सामना करना पड़ा है। बालमुरुगन 8 भाई-बहन है। उनके पिताजी को शराब की लत लगी थी, शराब के लत की वज़ह से उनकी आर्थिक स्थिति बहुत ख़राब हो गयी थी। उनके पिताजी अपने शराब की लत की वज़ह से वर्ष 1994 में घर छोड़ कर चले गए। पिता के जाने के बाद उनकी माँ पूलानीमल (Pulanimal) के लिए 8 बच्चों का परिवार चलाना एवं उनका पालन-पोषण करना आसान नहीं था। उनका अपना घर भी नहीं था इसीलिए पी बालमुरुगन की माँ ने अपने बचें-खुचें गहनों को बेच कर थोड़ी-सी ज़मीन खरीदी एवं एक फुस का घर बनवाया। पी बालमुरुगन के मामाजी उनके परिवार का बहुत सहयोग करते थे।

Photo Source: Internet

न्यूज़ पेपर (News paper) बेचने का काम शुरू किया

घर के हालात ख़राब होने के कारण पी बालमुरुगन (P Balamurugan) के लिए पढ़ाई के लिए पैसे जमा करना बेहद कठिन हो था लेकिन उन्हें पढ़ाई का बेहद शौक था इसीलिए वह महज़ नौ वर्ष के उम्र में ही 300 रुपये का नौकरी करने लगे एवं साथ में अख़बार बेचने का काम भी करते थे। उनके द्वारा किए गए इन कामों की वज़ह से उनके परिवार को राहत मिला। वह अख़बार बेच कर अपने स्कूल का फीस भरने लगे। अख़बार बेचने के साथ वह अख़बार पढ़ते भी रहते थे जिससे उनको अच्छी जानकारी होती गई।

टीसीएस (TCS) की नौकरी छोड़ कर किया यूपीएससी (UPSC) की तैयारी

पी बालमुरुगन (P Balamurugan) अपनी बीटेक (B.tech) की पढ़ाई पूरी करने के लिए मद्रास इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी चेन्नई (Madras institute of technology chennai) चले गए एवं कैंपस प्लेसमेंट के माध्यम से टीसीएस (TCS) में नौकरी करने लगे। जिसमें उन्हें लाखों का तनख्वाह मिलने लगा। नौकरी के कारण उनकी पारिवारिक स्थिति भी सुधार गई। उनकी बड़ी बहन भी पढ़-लिख कर नौकरी करने लगी। आगे उन्होंने सिविल सार्विस में जाने का फैसला लिया। जॉब के साथ-साथ यूपीएससी (UPSC) की तैयारी करना पी बालमुरुगन के लिए संभव नहीं हो पा रहा था इसीलिए उन्होंने नौकरी छोड़ने का फैसला लिया एवं यूपीएससी की तैयारी जी-जान लगा कर करने लगे।

Photo Source: Internet

यह भी पढ़ें: पिता सड़कों पर लगाते थे झाड़ू, बेटे ने आर्मी में अफसर बनके बढ़ाया मान: प्रेरणा

भारतीय वन सेना (IFS) में हुआ चयन

टीसीएस की नौकरी छोड़ कर कठिन परिश्रम करने के साथ पी बालमुरुगन ने यूपीएससी की तैयारी करने के लिए आईएएस अकेडमी चेन्नई (IAS academy chennai) में दाखिला लिया एवं अपनी घनिष्ठ मेहनत के बदौलत यूपीएससी की परीक्षा क्रैक कर लिया। पी बालमुरुगन (P Balamurugan) यूपीएससी परीक्षा में सफल हुए जिसके बाद उन्हें (EFS) अधिकारी के रूप में नियुक्त किया गया। उन्होंने अपने जीवन के कठिन परिस्थितियों का सामना कर अपने सपनों को पूरा किया। अपने सपनों को पूरा कर पी बालमुरुगन (P Balamurugan) लोगो के लिए प्रेरणा बन चुके हैं।

Shubham Jha
Shubham Jha
शुभम झा (Shubham Jha)एक पत्रकार (Journalist) हैं। भारत में पत्रकारिता के क्षेत्र में बदलाव लाने की ख्वाहिश रखते हैं। वह चाहते हैं कि पत्रकारिता स्वच्छ और निष्पक्ष रूप से किया जाए। शुभम ने पटना विश्वविद्यालय (Patna University) से पढ़ाई की है। वह अपने लेखनी के माध्यम से भी लोगों को जागरूक करते हैं।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -