17.1 C
New Delhi
Wednesday, February 8, 2023

चोरों के आतंक के कारण सुखबीर ने सिर्फ 51 लाख में ही बेच दी इस वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने वाली भैंस को

दुनिया भर के लोग पालतू पशु रखने के शौकीन होते हैं। हालांकि ज्यादातर लोगों के पास कुत्ते और बिल्लियाँ देखने को मिलती हैं। वही कई लोग गाय-भैंस पालते है और उनकी सेवा करते हैं। आज हम आपको एक ऐसे भैंस के बारे में बताएंगे जो 51 लाख रुपये में बेची गई है। आइये जानते है इस भैंस के बारे में।

वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने वाली भैंस

हिसार के गांव लितानी की मुर्राह नस्ल की भैंस सरस्वती ने दूध के मामले में पाकिस्‍तान को पछाड़ा था। सरस्वती ने एक नया रिकाॅर्ड अपने नाम किया था। सरस्‍वती ने पहले 33 किलो 131 ग्राम दूध देकर पाकिस्तान काे पीछे छोड़ विश्व रिकार्ड बनाया था। वहीं अब सरस्‍वती भैंस 51 लाख रुपये में बिकी है। भैंस के मालिक सुखबीर ढांडा के अनुसार भैंस को जीतने रुपये में बेचा गया है यह भी वर्ल्ड रिकॉर्ड है। भैंस को पंजाब के किसान पवित्र सिंह ने खरीदा है।

लोगों के लिए अजूबा भैंस

सरस्वती नाम के इस भैंस को देखने के लिए लोगों की भीड़ लगती थी। लोग इस अजूबे भैंस को देखने दूर-दूर से आते थे। किसान सुखबीर ढांडा की सात वर्ष की सरस्वती ने पंजाब में आयोजित एक प्रतियोगिता में पाकिस्तान का विश्व रिकार्ड तोड़ा था। सरस्वती भैंस द्वारा पाकिस्तान का रिकार्ड तोड़े जाने पर हरियाणा में यह बात चर्चा का विषय बन गई थी।

यह भी पढ़ें: ATM में चोरी कर रहे चोर को खुद बुलानी पड़ी पुलिस, कहा- ‘मुझे बाहर निकालो’, देखिये वायरल वीडियो

सुखबीर रखते थे भैंस का ख्याल

सुखबीर अपने भैंस का ख्याल बहुत रखते थे। सुखबीर सरस्वती के दूध और सीमन को बेचकर महीने में एक लाख से ज्यादा कमा लेते थे। मगर पाकिस्‍तान को पछाड़ ज्‍यादा दूध देने के बाद उन्‍हें यह डर सताने लगा कि कहीं उनकी भैंस चोरी न हो जाए। इसलिए उन्‍होंने इसे बेचने का फैसला लिया।

सुखबीर जानवरों के शौकीन

सुखबीर के घर में सरस्वती के साथ गंगा और जमुना के नाम से भी पहले भैंसें रह चुकी हैं। उनके द्वारा पाली जा रही भैंसें सुंदरता प्रतियोगिता में भी खिताब जीत चुकी हैं। वैज्ञानिक उनकी सरस्वती भैंस का ही क्लोन बनाने के प्रयास में हैं। सरस्वती से ही पैदा हुई कटड़ी की कीमत चार लाख रूपए है। सुखबीर सरस्वती को चारे में दस किलोग्राम फीड, जिसमें बिनौला, खल, चने का छिलका, मक्की, सोयाबीन, नमक और आधा किलोग्राम गुड़ और 300 ग्राम सरसों का तेल देते थे।

Medha Pragati
Medha Pragati
मेधा बिहार की रहने वाली हैं। वो अपनी लेखनी के दम पर समाज में सकारात्मकता का माहौल बनाना चाहती हैं। उनके द्वारा लिखे गए पोस्ट हमारे अंदर नई ऊर्जा का संचार करती है।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -