17.1 C
New Delhi
Wednesday, February 8, 2023

बचपन में नंगे पैर दौड़कर जीते 5 गोल्ड मेडल, कड़ी मेहनत के बदौलत बनी असम की DSP

खिलाड़ियों से भरी पड़ी है ये दुनिया, अगर पाना है बड़ा मुकाम तो बनना पड़ता है (Game Changer) गेम चेंजर। सफलता एक रात की खेल नहीं 100 बार गिरकर जो वापस खड़ा होता है दुनिया उसे ही सलाम करती है। ऐसे ही कहावतों कि एक बेशुमार मिसाल है असम की (Hima Das) हिमा दास। एक गरीब घर की लड़की ने कैसे खेतों में नंगे पैर दौड़कर अथिलीट (Athlete) और फिर डीएसपी (DSP) बनने तक का रास्ता तय किया है आइए जानते है।

हिमा का जन्म

हिमा का जन्म असम के नौगांव जिले के ढिंग गांव में 9 जनवरी सन 2000 को हुआ था। हिमा के घर में कुल 16 सदस्य रहते हैं जिसमें इनके 5 भाई-बहन हैं। इनके पिता एक किसान थे जिनके पास केवल 2 बीघा जमीन ही थी। इनके परिवार की आर्थिक स्थिति उतनी अच्छी नहीं थी। बचपन से ही खेलों में रुचि रख रही हीमा को पढ़ाई में कभी मन नहीं लगा। पढ़ाई में मन न लगने के कारण उन्होंने खेल को प्राथमिकता दी। इन सब में उनके पिता ने उनका बहुत साथ दिया, बता दे कि उनके पहले कोच उनके पिता ही बने। वह कई सालों तक सुबह 4 बजे उठकर अपने धान के खेत में ही दौड़ने की प्रेक्टिस किया करती थी।

खेत में ही खेला करती थी फुटबॉल

हिमा अपने पिता के खेत में ही फुटबॉल खेला करती थी। उनके खेल में रुचि देखकर एक दिन उनके टीचर ने उन्हें दौड़ने की सलाह दी। जब उन्होंने अपने स्थानीय कोच निपुण दास की सलाह मानकर जिला स्तर की 100 और 200 मीटर की स्पर्धा में भाग लिया तो उन्होंने गोल्ड मेडल जीता। बस यहीं से शुरू हुआ हिमा का एथलेटिक करियर।

यह भी पढ़ें: Vastu Tips: घर की इस दिशा में रख लें ये चीज, कभी नही होगी धन की कमी

कई सारे सम्मान से हुई हैं हिमा सम्मानित

हिमा दास के जज्बे और शानदार प्रदर्शन को देखते हुए उन्हें कई सारे अवार्ड से सम्मानित किया गया जिसमें से एक था अर्जुन अवॉर्ड। इसके साथ ही साथ हाल ही में उन्हें असम पुलिस में डीएसपी (DSP) भी बनाया गया है। इस अवसर पर हिमा ने कहा कि यह कोई बचपन का सपना सच होने जैसा है। वह बचपन से ही पुलिस अधिकारी बनना चाहती थी और असम पुलिस में सेवा कर अपनी मां का भी सपना पुरा करना चाहती थी।

Medha Pragati
Medha Pragati
मेधा बिहार की रहने वाली हैं। वो अपनी लेखनी के दम पर समाज में सकारात्मकता का माहौल बनाना चाहती हैं। उनके द्वारा लिखे गए पोस्ट हमारे अंदर नई ऊर्जा का संचार करती है।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -