13.1 C
New Delhi
Monday, January 30, 2023

दिहाड़ी मजदूर की बेटी ने UPSC निकाल कर पिता का मान बढ़ाया, अधिकारी करेगी देशसेवा: S Aswati

कहा गया है कि किसी भी कार्य को मेहनत एवं लगन के साथ किया जाए तो जीवन में सफलता अवश्य ही मिलती है। आज हम आपको एक ऐसी लड़की के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने अपने कठिन परिश्रम से यूपीएससी(UPSC) परीक्षा में सफलता हासिल की है।

बचपन से ही थी होनहार

एस.अस्वती (S. Aswati)का सपना बचपन से ही आईएएस ऑफ़सर (IAS Officer) बनने का था। अस्वती बचपन से ही पढ़ाई में बहुत होनहार थी। 12वीं तक की पढ़ाई पूरी करके गवर्नमेंट बार्टन हिल इंजीनियरिंग कॉलेज (Government Barton Hill Engineering College) से इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की।

जॉब छोड़ यूपीएससी (UPSC) निकाला

2015 में अस्वती (Aswati) का सिलेक्शन TCS कोचिंग में हुआ लेकिन अपने आईएएस अफसर बनने के सपने को पूरा करने के लिए अस्वती 2017 ने अपनी नौकरी छोड़ दी और यूपीएससी की तैयारी करने लगी। सिविल सर्विस परीक्षा की बेहतरीन तैयारी के लिए अस्वती (Aswati) ने केरल स्टेट सिविल सर्विस अकेडमी ज्वाइन किया। इतना ही नहीं आगे चलकर तिरुअनंतपुरम में भी कुछ प्राइवेट एकेडमी ज्वाइन कर यूपीएससी की तैयारी करने लगी।

Photo Source: Internet

पिता करते थे मजदूरी का काम

अस्वती (Aswati) का बचपन बेहद कठिनाई पूर्ण रहा। उनके पिता तिरुअनंतपुरम में दिहाड़ी मजदूर का काम करते थे। उनके परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी। इतने विकट परिस्थिति में भी आईएस (IAS) बनने का सपना संजोगना बहुत बड़ी बात है। अपने सपनों को साकार करने के लिए अस्वती (Aswati) ने कठिन परिश्रम करने का संकल्प लिया और जी तोड़ मेहनत करने लगी।

यूपीएससी (UPSC) में आया 481वां रैंक

24 सितंबर शुक्रवार को जब संघ लोक सेवा आयोग यूपीएससी (UPSC) ने 2020 के सिविल सर्विस परीक्षा का अंतिम परिणाम घोषित किया। अस्वती (Aswati) को 481वां रैंक प्राप्त हुआ। यूपीएससी में मिली सफलता से उनके परिवार में खुशी का ठिकाना ना रहा।

Photo Source: Internet

यह भी पढ़ें: दो बार नहीं निकाल पायी UPSC का प्री, तीसरी बार में Interview में टॉपर बनकर पायी ऑल इंडिया 9th रैंक: Dr Apala Mishra

कर सकती थी IRS का जॉब

अस्वती (Aswati) ने अपने एक इंटरव्यू के माध्यम से बताया कि मिले रैंक के मुताबिक उन्हें इंडिया रेवेन्यू सर्विस IRS का जॉब मिल सकता था। मगर उनका सपना IAS अफ़सर बनना है इसीलिए वह आगे भी यूपीएससी का तैयारी करती रहेगी और अपने सपनों को पूरा करेगी। उनका परिवार उनके सफलता को लेकर बेहद खुश है और उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करता हैं।

Medha Pragati
Medha Pragati
मेधा बिहार की रहने वाली हैं। वो अपनी लेखनी के दम पर समाज में सकारात्मकता का माहौल बनाना चाहती हैं। उनके द्वारा लिखे गए पोस्ट हमारे अंदर नई ऊर्जा का संचार करती है।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -