17.1 C
New Delhi
Wednesday, February 8, 2023

सफाई कर्मचारी का बेटा बना सेना में अफसर, पहले लोग उड़ाते थे मज़ाक, आज कर रहें हैं सैल्युट

प्राचीन ग्रंथो में माँ बाप को भगवान का दूसरा रूप माना गया है। बच्चे के जीवन में माँ और बाप दोनों की भूमिका शिक्षक की तरह होता हैं। माता-पिता अपने बच्चों को जीवन का ज्ञान देते हैं। और उन्हें एक बेहतर इंसान बनाने की कोशिश करते हैं।आज हम आपको एक ऐसे पिता के बारे में बताएंगे जिन्होंने सड़को पर झाडू लगाकर अपने बेटे को ऑफिसर बनाया है। आइये जानते है उनके बारे में।

सुजीत ने पिता का सपना किया पूरा

सुजीत अपने गाँव के पहले आर्मी ऑफिसर बने हैं। चंदौली के बसीला गाँव के सुजीत ना केवल इंडियन आर्मी ऑफिसर बने, बल्कि वह अपने गाँव से यह ख़ास उपलब्धि पाने वाले प्रथम व्यक्ति भी बने हैं। उनके छोटे भाई-बहन अभी कॉम्पिटिशन एग्जाम की तैयारियों में लगे हैं। अब उनके बड़े भाई सुजीत उनके लिए रोल मॉडल बन गए हैं। सुजीत का परिवार इस समय वाराणसी में रहता है।

यह भी पढ़ें: माँ के साथ खेतों में भी किया काम, देश के लिए न्यूयॉर्क में लगी नौकरी छोड़ बनी IPS

पिता को है गर्व

सुजीत के पिता का नाम बिजेंद्र कुमार है। वह एक सफाई कर्मचारी हैं। अपने बेटे की कामयाबी पर उन्हें बहुत गर्व है। सुजीत के पिता बिजेंद्र कुमार ने जो सपना देखा था उस सपना को सुजीत ने पूरा किया है। विजेंद्र आर्थिक रूप से कामजोड़ थे, फिर भी उन्होंने अपने बेटे के पढ़ाई में कभी कोई कमी नही की। वह एक सफाई कर्मचारी होने के बावजूद बेटे के पढ़ाई के लिए हमेशा तत्पर रहते थे।

IMA से ग्रेजुएट सुजीत

21 साल के सुजीत IMA देहरादून से ग्रेजुएट हुए हैं। सुजीत बचपन से बहुत कुशाग्र बुद्धि के थे। सुजीत जब ग्रेजुएट हुए तो उनके पासिंग आउट परेड में उनका परिवार शामिल नही हो पाया। क’रोना सुरक्षा नियमों के कारण उनके समारोह में उनके परिवार को इजाजत नही मिली। पर उनके पिता जब सुजीत की तस्वीर देखी तो उनके आंखों में आंसू आ गए। सुजीत ने अपने परिवार के साथ अपने समाज का भी नाम रौशन किया है। सुजीत आर्मी में ऑर्डिनेंस कॉर्प्स जॉइन करेंगे।

यह भी पढ़ें: छिन गई आंखों की रोशनी पर नहीं छिना हौसला, जानिए प्रांजल कैसे बनी देश की पहली नेत्रहीन IAS

सुजीत के भाई-बहनों को भी खूब पढ़ाना चाहते है उनके पिता

सुजीत के पिता बिजेंद्र कुमार अपने बच्चों के पढ़ाई पर बहुत ध्यान देते हैं। वह चाहते है कि सुजीत की तरह ही उनके और भी बच्चे एक अच्छे मुकाम पर जाए। बिजेंद्र की पत्नी भी काम करती है वह एक आशा कार्यकर्ता है। एक पिता का अपने बच्चों के भविष्य के लिए इतना गंभीर होना सचमुच काबिले तारीफ है।

Sunidhi Kashyap
Sunidhi Kashyap
सुनिधि वर्तमान में St Xavier's College से बीसीए कर रहीं हैं। पढ़ाई के साथ-साथ सुनिधि अपने खूबसूरत कलम से दुनिया में बदलाव लाने की हसरत भी रखती हैं।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -