13.1 C
New Delhi
Monday, January 30, 2023

Video: मां ने 2 साल के बच्चे को अकेले भेजा मॉल, इतने छोटे बच्चे की शॉपिंग देख लोग हुए हैरान

आज के समय में टिकटॉक इंटरटेनमेंट का एक बहुत बड़ा जरिया बन चुका है। कई सारे टिकटोकर्स वीडियो बनाकर हमारे मनोरंजन के लिए पोस्ट करते रहते हैं। कई सारे रील्स तो हमें खूब भाते हैं तो कई रिल्स हमे बहुत कुछ सिखा जाते हैं।

इसी बीच एक टिकटोकर लौरा @lauralove5514 ने एक वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें वह अपने 2 साल के बच्चे को शॉपिंग करने के लिए भेजती हैं। लौरा का मानना है कि मैच्योरिटी (Maturity) और फ्रीडम(Freedom) सिखाने से नहीं बल्कि Responsibilities से आती है। इस चीज को साबित करने के लिए उन्होंने अपने 2 साल के बेटे ‘योना’ को एक ट्रॉली के साथ मॉल में अकेला छोड़ दिया, जिसके बाद तो बच्चे की खुशी का कोई ठिकाना ना रहा।

लौरा का मानना बच्चों को बनाए आत्मनिर्भर

लौरा का मानना है कि सही वक्त और उम्र से कुछ नहीं होता बच्चों को अगर आत्मनिर्भर बनाना है तो उन्हें बचपन से ही जिम्मेदारियां संभालने देनी चाहिए। इसी सोच को आगे लेकर वह अपने दोनों बेटे कार्टर और योना को छोटी उम्र से ही जीवन के महत्वपूर्ण स्किल्स और आजादी देकर उन्हें आत्मनिर्भर बनाना चाहती हैं।

यह वीडियो लौरा ने सोशल मीडिया पर शेयर किया है जिसमें उनके बच्चे खुशी-खुशी घर की ग्रॉसरी और अन्य सामान की खरीदारी कर रहे थे। बच्चे इतने समझदार है कि उन्हें यह तक पता था कि कहां से कितना सामान उठाना है? कितनी मात्रा में उठाना है और क्या जरूरी है क्या नहीं?

देखें वीडियो

यह भी पढ़ें: लड़की ने स्कूटी से हाथी को मारा धक्का, वीडियो देखकर आप होंगे लोटपोट

बच्चों की क्षमता को नजरअंदाज न करें

वीडियो के शुरुआत में ही आप देखेंगे कि योना शॉपिंग कार्ट को मॉल के अंदर ढकेल रहा है। पहले उसने पुरे एरिया का जायजा लिया और फिर हर सेक्शन में जाकर अपनी जरूरत की चीजें उठाकर कार्ट में डाली। पहले उसने गोभी उठाई फिर स्नेक्स में चिप्स का पैकेट उठाया और फिर मसाले के सेक्शन में जाकर सरसों का पैकेट लिया। अंत में उसने अपने लिए एक चॉकलेट बार, कुछ जेम्स के पैकेट और एक छोटा पनीर का पैकेट लिया।

इस वीडियो के माध्यम से लौरा ने यह कहा कि बच्चे सब कुछ करने में सक्षम है उनकी उम्र को नजरअंदाज कर एक बार उन्हें मौका देकर देखना चाहिए। यह वीडियो बहुत सारे लोगों को बेहद पसंद आया है। कई लोग बच्चों की सूझबूझ को देखकर हैरान थे, कि इस उम्र में कोई सरसों का पैकेट कैसे पहचान सकता। कई लोगों ने मां लौरा की परवरिश के तरीके को खूब सराहा।

Medha Pragati
Medha Pragati
मेधा बिहार की रहने वाली हैं। वो अपनी लेखनी के दम पर समाज में सकारात्मकता का माहौल बनाना चाहती हैं। उनके द्वारा लिखे गए पोस्ट हमारे अंदर नई ऊर्जा का संचार करती है।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -