17.1 C
New Delhi
Wednesday, February 8, 2023

करनी पड़ी थी सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी, अब टेक ऑफिसर बनकर लोगों को दे रहे रोज़गार..

करनी पड़ी थी सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी, अब टेक ऑफिसर बनकर लोगों को दे रहे रोज़गार…

सीखना; दुनिया की सबसे खूबसूरत चीजों में से एक है सीखना। अगर हम ठान ले मुझे ये काम सीख लेना है तो हम इसे अवश्य पूरा कर सकते हैं । आप चाहे शिक्षा पूरी किए हो या नहीं लेकिन अगर आप में सीखने की इच्छा शक्ति है तोआपको उसे सीखने से कोई नहीं रोक सकता। एक ऐसा ही जीता जागता प्रमाण हम आपको बताने जा रहे हैं जो कि Zoha के एक सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट इंजीनियर अब्दुल आलिम की है।

पास में थे ₹1000

जब अब्दुल ने 2013 में अपना घर छोड़ा तो उस वक्त उनके पास मात्र ₹1000 ही था ।अब्दुल 10वीं तक पढ़ाई करके अपने काम में लग गए । अब्दुल को सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी मिल गई।

बदली उनकी किस्मत

एक दिन उस कंपनी के वरिष्ठ अधिकारी जब उनसे मिले तो उन्होंने कहा “अब्दुल तुम्हारी आंखों में मुझे बहुत कुछ दिखाई देता है।” जब अब्दुल से कंप्यूटर के बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि स्कूल में थोड़ा-बहुत HTML सीखा है।

सीखने लगे कार्य.

अब्दुल अलीम सीखने के लिए उत्साहित थे और वे वरिष्ठ अधिकारी अब्दुल को सिखाना चाहते थे। इसके लिए आलिम ने अपने 12 घंटे की ड्यूटी के बाद उस अधिकारी वरिष्ठ अधिकारी के पास जाकर कोडिंग सिखा करते थे। लगभग 8 महीने सीखने के बाद उन्होंने एक ऐप को लांच किया जो उस कंपनी के वरिष्ठ अधिकारी के द्वारा बहुत पसंद किया गया।

इससे प्रभावित होकर उन्होंने मैनेजर से इंटरव्यू की मंजूरी दे दी। इंटरव्यू पास करने के बाद उन्होंने Zoho corporation के साथ 8 वर्ष तक काम किए और बहुत कुछ सीखा। आज वह एक सफल इंजीनियर है।

अब्दुल अलीम की इस सफलता के लिए Vedic Gyaan उनको बधाई देता है.

आपको अब्दुल अलीम की यह सफलता की कहानी कैसी लगी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें.

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -