17.1 C
New Delhi
Wednesday, February 8, 2023

हकीकत: ट्रेन जब 110 की रफ्तार से गुजरी, तो ऐसी हो गयी स्टेशन की हालत

भारत की स्थिती स्वतंत्रता से पहले बहुत ही दयनीय थी लेकिन स्वतंत्रता के बाद से ही भारत के विकास के लिए बहुत सारे प्रयास किए गए है। भारत ने स्वतंत्रता के पश्चात हर क्षेत्र में बहुत ज्यादा प्रगति की है जिस कारण आज के समय का भारत प्राचीन भारत से बहुत ही अलग है। विभिन्न क्षेत्र में विकास भारत में समय के साथ- साथ हर क्षेत्र में खुद को बेहतर बना रहा है और लगातार विकास के नए- नए मार्ग खोज रहा है।

बुलेट ट्रेन का सपना कितना सफल ?

आज भारत में जहाँ बुलेट ट्रेन चलाने की बात हो रही है वहीं हमारे विकाशशील भारत में किसी तरफ़ ऐसी घटना हो जाती है जो हमें सोचने पर मजबूर कर देती है कि क्या हम इसके लिए पूर्णरूप से तैयार है। दरअसल, मध्य प्रदेश के बुरहानपुर में ट्रेन के गुजरने से स्टेशन ही भरभराकर गिर पड़ा। नेपानगर और असीगढ़ के बीच से पुष्पक एक्सप्रेस गुजर रही थी, तभी वहां स्थित चांदनी रेलवे स्टेशन में कंपन महसूस हुई और कुछ देर में ही यह स्टेशन गिर गया। राहत यह रही कि हादसे में किसी की जान नहीं गई।

ट्रेन की गति थी ज्यादा।

यह ट्रेन अपनी सामान्य स्पीड 110 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से जा रही थी। कंपन से स्टेशन अधीक्षक के कमरे की खिड़कियों के कांच तक फूट गए, बोर्ड नीचे गिर गया। हालांकि, ट्रेन को हरी झंडी दिखाने बाहर निकले ASM को नुकसान नहीं पहुंचा। उन्होंने हादसे के बारे में प्रशासन को सूचित किया।

घटना के बाद ट्रेन को रोका गया।

घटना के बाद पुष्पक एक्सप्रेस को एक घंटे तक रोका गया। हादसे की वजह से बाकी ट्रेनों का संचालन भी करीब आधे घंटे तक प्रभावित रहा। खबरों के मुताबिक, बुरहानपुर का यह स्टेशन साल 2007 में बनाया गया था। इसे मुंबई- दिल्ली रेलवे मार्ग का सबसे व्यस्त रेलवे स्टेशन बताया जाता है।

Medha Pragati
Medha Pragati
मेधा बिहार की रहने वाली हैं। वो अपनी लेखनी के दम पर समाज में सकारात्मकता का माहौल बनाना चाहती हैं। उनके द्वारा लिखे गए पोस्ट हमारे अंदर नई ऊर्जा का संचार करती है।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -