13.1 C
New Delhi
Monday, January 30, 2023

बिहार के एक छोटे से गाँव से निकलकर UPSC टॉप करने तक, पढिये शुभम की प्रेरणादायक कहानी

देश की सबसे प्रतिष्ठ‍ित सेवाओं में शामिल सिव‍िल सेवा परीक्षा में जाना सभी अभ्यर्थी का सपना होता है।

हर साल हजारों अभ्यर्थी इसकी परीक्षा देते हैं, लेकिन उनमें से कुछ ही इसकी प्री परीक्षा में चयनित होते हैं। आज हम आपको यूपीएससी वर्ष 2020 के टॉपर शुभम कुमार के बारे में बताएंगे। जिन्होंने कड़ी परिश्रम के बाद इस मुकाम को हासिल किया। आइये जानते है शुभम कुमार के बारे में।

शुभम कुमार का परिचय

यूपीएससी 2020 टॉपर शुभम कुमार कटिहार जिला के कदवा प्रखंड अंतर्गत कुम्हरी गांव के रहने वाले हैं। उनके पिता का नाम देवानंद सिंह है। शुभम की जब प्राथमिक शिक्षा शुरू हुई तो गांव में शिक्षित लोग न के बराबर थे। गांव में सिर्फ एक सरकारी स्कूल था। यहां संसाधनों की भी काफी कमी थी। ऐसे में पिता ने शुभम को बाहर भेजा जहां कड़ी मेहनत कर शुभम ने IAS बनने तक का सफर तय किया।

परिवार के लोग है शिक्षित

शुभम के गांव में जहाँ शिक्षा की कमी है वहीं उनके परिवार के सभी लोग शिक्षित हैं। उनकी माँ पूनम देवी भी शिक्षित महिला हैं। शुभम के पिता उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक में मैनेजर के पद पर कार्यरत है। उनके परिवार में माता-पिता के अलावे एक बहन भी है। उनका परिवार हमेशा से शिक्षा के प्रति जागरूक रहा है। शुभम के गांव में संसाधनों के कमी के बावजूद उनके पिता ने उन्हें अच्छी शिक्षा दी।

यह भी पढ़ें: बिहार की बेटी ने गाड़े सफलता के झंडे, ISRO की परीक्षा में All India में तीसरा रैंक लाकर बनी वैज्ञानिक

शुभम की प्राथमिक शिक्षा

शुभम ने कक्षा दो तक की पढ़ाई गाँव के स्कूल से ही की। इसके बाद वह पटना आ गए। पटना में शुभम कक्षा पांच तक की पढ़ाई पूरी कर पूर्णिया के परोरा स्थित विद्या बिहार आवासीय स्कूल में कक्षा छह से लेकर मैट्रिक तक पढ़ाई की। इसके बाद 12वीं की शिक्षा उन्होंने चिन्मया विद्यालय बोकारो से की। बाद में शुभम आईआईटी मुंबई से सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। साल 2018 में शुभम कुमार ने आईआईटी मुंबई से अपनी शिक्षा पूरी कर ली।

नौकरी के बजाय यूपीएससी की तैयारी की

शुभम ने नौकरी करने के बजाय यूपीएससी की तैयारी करना सही समझा। इंजीनियरिंग की पढ़ाई खत्म करने के बाद शुभम ने UPSC की तैयारी शुरू कर दी। उनके परिवार वालों ने भी उनका साथ दिया। वह एक IAS ऑफिसर बनना चाहते थे। उन्होंने पहली बार साल 2018 में UPSC की परीक्षा दी। लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली। पर उन्होंने हिम्मत नही हारी। उन्होंने दोबारा 2019 में एक बार फिर इसकी परीक्षा दी। इस बार शुभम को 290 वां रैंक आया। पर वह इतने से संतुष्ट होने वालों में से नही थे।

टॉपर बन कर रचा इतिहास

शुभम ने साल 2020 में एक बार फिर से UPSC की परीक्षा दी। इस परीक्षा में शुभम कुमार ने पूरे देश में टॉप किया है। कड़ी मेहनत के बदौलत आज शुभम ने खुद के सपने को साकार कर अपने और अपने परिवार का नाम रौशन किया है। उनके गांव के लोगों के साथ-साथ पूरे देश को उनपर गर्व है।

शुभम आज लाखों युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत बन गए हैं।

Shubham Jha
Shubham Jha
शुभम झा (Shubham Jha)एक पत्रकार (Journalist) हैं। भारत में पत्रकारिता के क्षेत्र में बदलाव लाने की ख्वाहिश रखते हैं। वह चाहते हैं कि पत्रकारिता स्वच्छ और निष्पक्ष रूप से किया जाए। शुभम ने पटना विश्वविद्यालय (Patna University) से पढ़ाई की है। वह अपने लेखनी के माध्यम से भी लोगों को जागरूक करते हैं।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -