17.1 C
New Delhi
Wednesday, December 1, 2021

एक ही परिवार के 4 सदस्य है IPS अफसर, बेटा, बेटी के साथ-साथ दामाद भी हैं अधिकारी

आज के युग के बच्चे पढ़ाई को लेकर काफी जागरूक हो गए है। अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए हर संभव प्रयास में जुटे रहते है। आज हम आपको आंध्रप्रदेश के एक परिवार के बारे में बताने जा रहें है, जहाँ एक ही परिवार के 4 लोग आईपीएस ऑफिसर बन कर अलग-अलग राज्यों में सेवा दे रहे हैं।

आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिले के इस परिवार के 4 सदस्य आईपीएस ऑफिसर के रूप में अलग-अलग राज्यों में कार्यरत है। एक ही परिवार के पिता, बेटी, बेटा और दामाद चारों आईपीएस ऑफिसर है। घर के मुखियाँ आईपीएस ऑफिसर एम विष्णु वर्धन राव (IPS officer M. Vishnuvardhan), दामाद आईपीएस ऑफिसर विक्रांत पाटिल (IPS officer Vikranat Patil), बेटी आईपीएस ऑफिसर एम. दीपिका (IPS officer M. Deepika), बेटा आईपीएस ऑफिसर हर्षवर्धन (IPS officer Harshvardhan) एक ही परिवार के होकर यूपीएससी क्रैक करके आईपीएस ऑफिसर बन कर अपने परिवार साथ-साथ अपने देश का भी नाम रौशन किया है।

केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा है सम्मानित

घर के मुखिया एम. विष्णु वर्धन राव साल 1987 के बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। उन्हें PPMDS और PMMS जैसे प्रतिष्टित पुलिस पदक भी प्राप्त हैं। उनके बेटे हर्षवर्धन यूपीएससी का परीक्षा क्रैक कर साल 2012 में अरुणाचल की राजधानी ईटानगर में आईपीएस के पद पर कार्यरत है। हर्षवर्धन बचपन से ही पढ़ाई में बहुत तेज़ थे। वह कम उम्र में आईपीएस ऑफिसर है इस वजह से उनकी गिनती पुलिस अधिकारियों में होती है। केंद्रीय गृह मंत्रालय की तरफ से इन्हें नेक व अच्छे कार्यों के लिए सम्मानित किया गया था।

आईपीएस ऑफिसर बनने का बचपन से ही देखती थी सपना

उनकी बेटी और दामाद की बात की जाए तो एम.दीपिका अपने पिता को आईपीएस ऑफिसर के रूप में बचपन से ही देखा करती थी, तभी से उनकी इच्छा थी कि वह भी अपने पापा की तरह आईपीएस अधिकारी बनकर देश की सेवा करें। आगे चलकर उन्होंने अपने सपने को पूरा भी किया। आईपीएस बनने के बाद उन्होंने कर्नाटक (karnatak) के रहने वाले विक्रांत पाटिल से लव मैरिज किया। शादी से पहले विक्रांत पाटिल आईपीएस ऑफिसर के पद पर तमिलनाडु (Tamilnadu) में तैनात थे लेकिन शादी के बाद अपनी पत्नी दीपिका के साथ आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) कैडर में अपनी सेवा दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें: दुर्गा माता की मूर्ति बनाने में किया जाता है वेश्यालय की मूर्ति का प्रयोग, जानिए कारण

आईपीएस बनने से पहले इंजीनियरिंग (Engineering) कर चुके हैं

एम. दीपिका ने मीडिया वालों से बातचीत के दौरान बताती है कि दोनों भाई-बहन ने राजस्थान (Rajasthan) के झुंझुनू जिले के पिलानी स्थित बिट्स से इंजीनियरिंग करने के बाद ही यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दिए थे एवं अब आईपीएस ऑफिसर बन कर अलग-अलग ज़गह अपनी सेवा दे रहे हैं।

Medha Pragati
मेधा बिहार की रहने वाली हैं। वो अपनी लेखनी के दम पर समाज में सकारात्मकता का माहौल बनाना चाहती हैं। उनके द्वारा लिखे गए पोस्ट हमारे अंदर नई ऊर्जा का संचार करती है।

Related Articles

Stay Connected

95,301FansLike
- Advertisement -

Latest Articles